adch

ads-vi

सोमवार, 18 दिसंबर 2017

'/>

अगर आप एंड्रॉयड स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं तो आपको बता दें Google पर आप की जानकारी को शेयर किया जा रहा है




जानिए कैसे लीक  होती है आप की जानकारी

एक रिपोर्ट के मुताबिक मोबाइल डिवाइस के सेंसर  के जरिए डिवाइस  की एक्टिविटी मॉनिटर प्रोसेस और डिस्क्लोज़  की जाती है इसके बाद यूजर की जानकारी को एंड्रॉयड डिवाइस में दिए गए एक्टिव reganition परमिशन के जरिए एक्सेस किया जाता है पूरा प्रोसेस मात्र कुछ सेकंड में ही हो जाता है उदाहरण के तौर पर हम आपको बता रहे हैं अगर आप मेट्रो स्टेशन से ऑफिस की तरफ जा रहे हैं तो एक्टिवेशन परमिशन लोकेशन सेंसर गायरोस्कोप प्रॉक्सिमिटी और अन्य सेंसेर  के जरिए आपकी रियल टाइम लोकेशन को कैप्चर कर लेते हैं इससे यूजर्स की फिजिकल एक्टिविटी पर नजर रखी जा सकती है

कैसे काम करता है एक्टिव कितना स्टेशन
गूगल ने खुद बताया एंड्रॉयड डिवाइस में एक्टिव  रिकग्निशन एपीआई बिल्ट इन होता है रिपोर्ट में बताया गया कि की एक्टिंग करने से कुछ  समय पर सेंसर डाटा को पढ़कर उन्हें मशीन लर्निंग मॉडल्स के जरिए प्रोसेस कर एक्टिविटी का पता लगाता है इसके बाद इस जानकारी को फोन ऐप्स से शेयर किया जाता है

आपको बता दें एक्टिविटी इन नेशन परमिशन का विकल्प फोन की सेटिंग में अदर ऑप्शन के अंदर दिया गया होता है  डिसेबल करने का कोई तरीका नहीं है लेकिन हर  ऐप में जाकर ठीक किया जा सकता है अगर आप किसी ऐप पर  अपनी एक्टिविटी डिटेल नहीं भेजना चाहते हैं तो एक्टिव कितना स्टेशन पर मिशन को डिसेबल किया जा सकता है



For the latest tech news , follow k24 Gadgets  on TwitterFacebook-


Tags:




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ads1-ad

Technical Life Style

अमेरिका की एक बैंक एचएसबीसी ने न्यूयॉर्क स्थित फ्लैगशिप पर रोबोट को तैनात कर दिया इस रोबोट का नाम पेपर है यह रोबोट बैंक में आने वाले...